?

Log in

आलोक कुमार
alok
................................

December 2007
            1
2 3 4 5 6 7 8
9 10 11 12 13 14 15
16 17 18 19 20 21 22
23 24 25 26 27 28 29
30 31

आलोक कुमार [userpic]
यार मेरा भी दर्द समझो

जयनगर में एक साइबर कैफ़े में बैठा हूँ और बगल में बैठा ढक्कन अपने रूममेट को फ़ोन पर ज़ोर ज़ोर से मुर्गी बनाना सिखा रहा है। हद होती है यार। वो भी हैऩ्ड्स फ़्री के साथ । यहाँ पर विऩ्डोज़ 98 है इसलिए लिखने के लिए http://devanaagarii.net/inscript</> का इस्तेमाल किया।

Comments
(Anonymous)

आपका इंस्क्रिप्ट तो बढ़िया है. क्या इसमें कृतिदेव कुंजीपट के द्वारा यूनिकोड लिखने की सुविधा डाल सकते हैं? भारत की अधिकांश जनता (विंडो 98 युग की)अभी भी कृतिदेव फ़ॉन्ट व कुंजीपट इस्तेमाल करती है.

कृतिदेव के जमाव का कोई उदाहरण दे सकते

तो बताइए। वैसे इंस्क्रिप्ट सीखना काफ़ी आसान है, मात्राएँ व स्वर एक तरफ़, व्यञ्जन एक तरफ़।

अच्छा है ना, एक पन्थ दो काज, सर्फ़िंग की सर्फ़िंग कुकिंग क्लासेस साथ में। ढक्कन के रूमी का पता ले लेना, डिनर का जुगाड़ हो जायेगा।

हाँ एक ही दिक्कत है कि मैं शाकाहारी हूँ।